मंगलवार, 2 जून 2009

नया क़ानून लाने का विचार है ऑस्ट्रेलिया सरकार का

भारतीय छात्रों पर ऑस्ट्रेलिया में हो रहे हमले के विरोध में युवाओं की गांधीगिरी और चौतरफा राजनयिक दबाव के बाद ऑस्ट्रेलियाई सरकार को विदेशी छात्रों की सुध आयी है. चौतरफा दबाव के बाद ऑस्ट्रेलियाई सरकार अब देश में रहने वाले विदेशी छात्रों की सुरक्षा के लिए जल्दी हे एक क़ानून लाने पर विचार कर रही है. दिल्ली स्थित उच्चायोग पर प्रदर्शन करने गए भारतीय जनता युवा मोर्चा के एक प्रतिनिधिमंडल को ऑस्ट्रेलिआई उच्चायुक्त जोन मेक कार्थी ने यह भरोसा दिया है. उन्होंने प्रतिनिधिमंडल को सभी भारतीय छात्रों को पूरी सुरक्षा मुहेय्या कराने का भी भरोसा दिलाया है.

इस बीच भारत के बढ़ते दबाव के मद्देनजर ऑस्ट्रेलिया के प्रधान मंत्री केविन रुद्ड ने हमले के दोषियों को दण्डित करने का आश्वाशन संसद में दिया है. साथ ही उन्होंने कहा है सभी ९०,००० भारतीय छात्र ऑस्ट्रेलिया में मेहमान हैं.

3 टिप्‍पणियां:

  1. New or Old law not effect racical incident in australia or ANY part of world .This incident will be held.It is "Law of Nature".when a person insecure by other in the field of survive ON EARTH ,they will attack each other.Austrian are insecure in the field of emploment or other area by indian students.
    take a ex :
    In india bihari student are beaten in maharastra, assam ,punjab AND abuse in all over india why?............. they insecure by bihari student because max. competitive exam seat fill by bihari merit.

    उत्तर देंहटाएं
  2. Goldi ji, aapkee baat bilkul sahee hai.
    keval kaanoon se kuchh naheen hota hai balki ichchhashakti bhee chaahiye.

    उत्तर देंहटाएं
  3. कहने और करने में फर्क होता है। देखते हैं, ये करते क्या हैं।

    उत्तर देंहटाएं