सोमवार, 26 जून 2017



nfyr mEehnokjh o eksnh dk varjjk"Vzh; jktu;
panu ’kekZ
oSls rks jk"Vzifr in ds pquko dh fclkr fcN pqdh gS vkSj ,uMh, vkSj ;wih, nksuksa us gh vius&vius mEehnokjksa dh ?kks"k.kk djds ;g rks Li"V dj fn;k gS fd buesa ls dksbZ Hkh vius dks derj ekuus dks rS;kj ugha gSA gkaykafd bl ?kks"k.kk ls foi{kh nyksa esa gks jgk fc[kjko fQygky rks Fke x;k gSA tsMh;w] chtsMh vkSj ,vkbZMh,eds bl ekeys esa viokn t:j gks ldrs gSaA ij bl ekeys esa ;g ns[kuk fnypLi gS fd ,uMh, ds mEehnokj jkeukFk dksfoan ;k ;wih, dh ehjk dqekj nksuksa esa tks Hkh pquk tk,] oSls vkadM+s ,uMh, ds i{k esa fn[krs gSa] ns’k dks feyus okys u, jk"Vzifr dh ;ksX;rk esa dbZ ekeyksa esa vusd lekurk,a gSaA elyu Hkkjr nksuksa gh mEehnokj dkuwu ds Kkrk gSaA nksuksa gh mEehnokjksa us flfoy lsok ijh{kk mRrh.kZ dh gS vkSj lkaln jgs gSa vkSj bu lcls c<+dj nksuksa gh nfyr gSaA blds vykok nksuksa dk gh fcgkj vkSj mRrj izns’k ls ukrk jgk gS] ftls vfHktkR; oxZ lkekU;r;k xS;k iV~Vh ;k fganh iV~Vh ds :i esa tkurk gSA
,sls esa ,uMh, cuke ;wih, dks ysdj gks jgh mBkiVd esa ;g LIk"V rks gks pqdk gS fd ns’k dks vxyk jk"Vzifr nfyr vkSj fof/kosRrk ds :i esa feyus okyk gSA ij ,uMh, vkSj ;wih, nksuksa ds gh mEehnokjksa ds nfyr gksus dk ?kjsyw Lrj ij vkSj lkFk gh varjjk"Vzh; Lrj ij rkRdkfyd ykHk fuf’pr :i ls iz/kkuea=h dks gh feyus okyk gSA ?kjsyw Lrj ij ;g igys gh Li"V gks pqdk gS fd fcgkj ds jkT;iky jkeukFk dksfoan dks jk"Vzifr ds mEehnokj ds :i esa is’k fd, tkus dks ysdj iz/kkuea=h dh pkSadkus okyh ?kks"k.kk us foi{kh nyksa dks u flQZ ,dtqV jgus ds fy, ck/; fd;k cfaYd bl ckr ds fy, Hkh ncko Mkyk fd os Hkh blh Lrj dh fdlh cM+s O;fDRo dks ysdj vk,a ftldh lHkh ds chp loZekU;rk gksA dgus dh Tk:jr ugha gS fd iwoZ yksdlHkk Lihdj jg pqdha ehjk dqekj dh Lohdk;Zrk ,sls usrk ds :i rks gS gh] Hkys gh vkadM+s dqN Hkh ifj.kke nsaA
ij lcls fnypLi ;g gS fd ;g pquko iz/kkuea=h dh vkxkeh vesfjdh ;k=k dh pqukSfr;ksa ds ncko dks FkksM+k gYdk t:j djsxkA dgus dh t:jr ugha gS fd iz/kkuea=h dh vkxkeh fons’k ;k=k esa vesfjdh ;k=k dks fo’ks"kKksa dh utj ls iz/kkuea=h eksnh dh lcls pqukSrhiw.kZ dwVuhfrd ;k=k ds :i esa ns[kk tk jgk gSA ;g vesfjdk esa lRrk ifjorZu  vkSj jk"Vzifr MksukYM Vzai ds in laHkkyus ds ckn iz/kkuea=h ujsanz eksnh dh igyh ;k=k gSA Vzai oSls rks nf{k.kiaFkh jk"Vzifr ekus tkrs gSa ij muds dbZ vU; fons’kh usrkvksa dh Vzai ds lkFk ehfVax ds ckn ftl rjg dh jk; txtkfgj gqbZ gS og vius vki esa csgn fnypLi vkSj dwVuhfrd xfy;kjksa esa pqukSrhiw.kZ ekuk tkrk jgk gSA ;gka rd tEkZuh dh pkalyj ,atsyk edsZy us gky esa Vzai ls feyus ds ckn vesfjdk dks xSj&fo’oluh; dh Js.kh esa yk [kM+k fd;k FkkA bl ij oSf’od dwVuhfrd gydksa esa [kklh ljxehZ iSnk gks xbZ FkhA ,sls esa Vzai ls eksnh dh eqykdkr fdruh lgt gksxh ;g dguk eqf’dy gSA oSls ;gka ;g /;ku j[kus dh ckr gS fd ,atsyk edsZy ls eksnh ds lgt vkSj csgrj fj’rs gSaA
dgus dks bl pqukSrhiw.kZ okrkoj.k esa nks ckrsa tks eksnh dks varjjk"Vzh; jktu; esa tks lacy vkSj lqdwu iznku djus okyh gSa muesa ls ,d gS varjjk"Vzh; Lrj ij ;ksx fnol dk vk;kstu ftlesa fd djksM+ksa dh la[;k esa 150 ns’kksa ls T;knk ds ns’kksa esa Hkkx fy;k FkkA dgus dh t:jr ugha gS fd bl izkphu ikjaifjd fo/kk dks cuk, j[kus vkSj bls nqfu;kHkj esa dksus&dksus rd igqapkus esa la;qDr jk"Vz ds vykok [kqn iz/kkuea=h eksnh dk ;ksxnku rks jgk gh gS vkSj jk"Vzifr Vzai bl rF; dh mis{kk ugha dj ldrs gSaA
nwljk fuf’pr :i ls ,d nfyr usrk dk ns’k ds lokZsPp in ds fy, p;u dh rS;kjh dk gksxkA vesfjdh dwVuhfr bls ysdj fuf’pr :i ls ltx utj vkrk gS fd fdlh Hkh ns’k esa lqfo/kkoafpr oxZ dks D;k lqfo/kk,a nh tk jgh gSa\ ,sls esa nfyr dk ns’k ds loksZPp in ds fy, p;u fuf’pr :i ls dqN lacay rks fuf’pr :i ls iznku djus okyk gSA ,sls esa ;g FkksM+h lqdwu okyh ckr gks ldrh gS fd ohtk] j{kk vkSj O;kikj ls tqM+s eqn~nksa ij dqN jkgr Hkjh [kcjsa eksnh dh ;k=k ls igys bu fnuksa lquus dks fey jgh gSaA

शनिवार, 15 अप्रैल 2017

Begum Jaan asks autograph from Maithili



tc csxe tku us ekaxk vkWVksxzkQ

panu 'kekZ
oSls rks csxe Tkku ;kuh fd fo|k ckyku dh vnkdkjh ds eqjhn rks ns’k esa djksM+ksa yksx gSa ij fo|k ckyku [kqn gh fdlh ds Qzu dh ,slh eqjhn gks tk, fd yxs fd og [kqn gh Qudkj ls vkVksxzkQ ekaaxus yxs rks lksfp, Qudkj dk D;k gky gksxk\ dqN ,slk gh okd;k chrs gQ~rs ,d fj;fyVh ’kks ds nkSjku ns[kus dks feyk tcfd fo|k ckyku dylZ ds lsV ij Hkkjr&ikfdLrku ds caVokjs ij cuh fQYe ^csxe tku^ dk izkseks’ku djus ds fy, ^jkbftax LVkj^ ds lsV ij vkbZ gqbZ FkhaA csxe tku esa fo|k us viuh vnkdkjh dh loksZPprk dks fQj ls LFkkfir fd;k gSA

oSls rks bl izksxzke esa tt e’kgwj laxhrdkj ’kadj egknsou] eksukyh vkSj fnythr gSa ij blesa fo+|k ckyku us f’kjdr djds pkj pkan yxk fn,A fo|k blds izfrHkkfx;ksa esa ls eSfFkyh Bkdqj ls bruh izHkkfor gqbZa fd mUgksaus vkf[kjdkj eSfFkyh ls vkWVksxzkQ ekax gh fy;k og Hkh vius gkFk ij ghA ;gh ugha mUgksaus bl ckr dh bPNk trkbZ fd dHkh eSfFkyh muds fy, Hkh xkuk xk,A
oSls jkbftax LVkj ds lsehQkbuy esa vkus ls igys gh eSfFkyh dks ns’k ds dbZ e’kgwj laxhrdkjksa ds lkFk dke djus dk vkWQj fey pqdk gSA eSfFkyh vius xk;u esa fganqLrkuh ’kkL=h; xk;u dk vn~Hkqr esy djrh gS tks fd u flQZ ttksa dks cfYd djksM+ksa n’kZdksa dks izHkkfor fd, cXkSj ugha jgrk gSA 
QksVks% lokZf/kdkj lqjf{kr panu 'kekZ@;qokok.kh MkWV dkWe] ,d futh iz;kl

सोमवार, 6 फ़रवरी 2017

SCAM: Jara Sochiye

^ckr fudyh gS rks nwj ryd tk,xh^



Pkanu 'kekZ
dgkor gS fd ^ckr fudyh gS rks nwj ryd tk,xh^A vc pwafd iz/kkuea=h ujsanz eksnh ds eq[kkjfoan ls ;g ckr fudyh gS rks tkfgj gS fd ;g dksbZ ekewyh ckr rks ugha gks ldrh gSA oSls Hkh iz/kkuea=h ’kCnksa ds dksbZ dPps f[kykM+h rks ughsa gSaA gtkjksa yksxksa ds chp esa tc djksM+ksa n’kZdksa ds chp tc Vhoh dh ykbo gks jgh gks rc ;g ckr dgh xbZ gks rks ;g ekewyh gks gh ugha ldrh gSA

vycRrk iz/kkuea=h dh ckr rks nwj rd igys gh tk pqdh gSA vc ^LdSe^ dh ftl rjg ls mUgksaus O;k[;k fd;k gS mlus rks dbZ;ksa ds gks’k rks igys gh mM+k fn, gSa ij mu [kkfyl dkaxzsfl;ksa vkSj lektokfn;ksa dh djksM+ksa dh tekr dh ukjktxh dk D;k fd;k tk, tks fd ftUkds mnkjoknh fopkjksa dh otg ls ns’k esa tula?k vkSj Hkktik vkSj fganwoknh fopkj/kkjk vkSj lkE;okn  dks lrr vkWDlhtu gh ugha feyk cfYd muds fopkjksa dks Hkh blh ns’k esa mlh rjg ls Qyus&Qwyus vkSj iuius vkSj QSyus dk volj Hkh feykA gkaykfd] vkt ds nkSj esa ;g fy[kuk Hkh [krjs ls [kkyh ugha gS ij dye og D;k tks [kqydj fy[k gh ugha ik,A oSls Hkh dye ds dnznku de gh gSa vkSj nq’eu dbZ xqukA ij bl QDdM+h esa Hkh ugha fy[kk rks D;k fy[kk\

rks ckr LdSe dh py jgh FkhA vc iz/kkuea=h us rks ns’k ds lcls ^mRRke izns’k^ dks lektokfn;ksa] dkaxzsfl;ksa vkSj vf[kys’k vkSj ek;korh ls eqDr djkus dk ukjk rks ns fn;k ij bldk ifj.kke ;g gqvk fd iz/kkuea=h dh bl ubZ O;k[;k ls bruh izfrfdz;k,a vkbZa fd LdSe dk vlyh vFkZ gh xqe gks x;kA ojuk] vcrd rks LdSe dk eryc rks yksx ?kksVkyk gh tkurs FksA

vc mRrj izns’k ds ;qok eq[;ea=h us rks bldk vFkZ cnydj , ls vfer ’kkg vkSj ,e ls eksnh dj fn;k rks jkgqy xka/kh us budh ubZ O;k[;k dj Mkyh gS elyu ^lso daVzh QzkWe vfer’kkg ,aM eksnh^ rks bldh vHkh vkSj ubZ O;k[;k,a dh tk jgh gSaA vc bl pDdj esa cspkjs vkWDlQksMZ okys ?kupDdj cu x, gSaA [kcj gS fd mUgksaus bl ij fopkj djuk izkjaHk dj fn;k gS fd fMD’kujh ds u, laLdj.k esa bl ’kCn dks j[kk tk, ;k ughaA mudh fpark bruh Hkj gh ugha gSA mUgksaus bl ij fo}kuksa dh jk; Hkh ekaxh gS fd bl rjg ls vxj vFkZ vFkZkr~ vuFkZ dk lkekU;hdj.k fd;k tkus yxk rks mldk bykt D;k gks ldrk gS\ ij fQygky rks HkykbZ blh esa gS fd bu vFkZdkjh fo?uksa ds chp esa vius dks lesV dj j[kk tk,A

oSls Hkh fet+kZ x+kfyc dk ’ksj rks e’kgwj gS gh & gtkjksa [okfg’ksa ,slh fd gj [okfg’k is ne fudysA ij bl pquko esa irk ugha fdl & fdl dk ne fudyrk gSA
tjk lksfp,A 

रविवार, 6 अप्रैल 2014

ताकि लोकतंत्र जिन्दा रहे


इन दिनों चुनाव का बेहद दिलचस्प नज़ारा देखने को मिल रहा है, चुनाव का जो शोर सडकों पर है वह लोगों के बीच से लगभग नदारद है। कहने को तो चुनाव के 'परिणाम' चुनावों से बहुत पहले ही आ गए हैं पर लोगों ने अपनी दिल की बात कुछ यूं दिल से चस्पां  कर लिया है कि मानों उन्होंने कसम खा रखी हो कि चुनाव से पहले दिल से बात निकल जाए तो क्या कहने? बिहार में जहां ट्रेनों में चुनाव चर्चा हमेशा ही गुलज़ार होती थी, एकाएक वे भी मौन-मोहन का रूप ले चुके हैं। वैसे चुनाव से परे रेल का जनरल डब्बा एक मिनी भारत का रूप ही होता है और अगर वहाँ से चुनाव-चर्चा गायब है तो साफ़ है कि लोग इन चर्चाओं से परे रहना चाहते हैं। यह अलग बात है सोनिया-राहुल, मोदी-आडवाणी व अन्य दिग्गज देश में अलख जगाने में जुटें हैं ताकि देश जागे। पर लोग हैं कि चुनावों में उनका दिल  लगता ही नहीं। अब अभियान चलाये जा रहे हैं। देश के लिए आप भी करें वोट ताकि लोकतंत्र जिन्दा रहे।

गुरुवार, 18 अप्रैल 2013

भारत में 24 x 7 एफ एम समाचार सेवा, बीबीसी में हिंदी सेवा की समाप्ति

 रेडियो के भारतीय श्रोताओं के लिए एक अच्छी और एक बुरी खबर है। जहाँ प्रसार भारती भारत में 24  x 7 एफ एम समाचार सेवा शुरू कर रहा है वहीं बीबीसी ने हिंदी सेवा के समाप्ति पर अंतिम निर्णय ले लिया है। विस्तार से चर्चा जल्द होगी।   

रविवार, 26 सितंबर 2010

राष्ट्रमंडल खेल में बाढ़ और डेंगू के फायदे

इन दिनों राष्ट्रमंडल खेलों पर जैसे विपदा आन पड़ी है. जिसे देखो वही एक दूसरे को कोसने में लगा हुआ है. अब ब्रिटेन की महारानी, जिनकी हुकूमत के निशानी के रूप में इन राष्ट्रमंडल खेलों का आयोजन हो रहा है और होता रहा है वे तो इसमें आ नहीं रहीं हैं, अब ऐसे में जिसकी इच्छा हो वह चाहे जिस किसी को कोस ले. और, मीडिया को कोसने के लिए इस बार पूरा मसाला मिला हुआ है. नतीजा, हम अब दुनिया की नजर में सबसे अव्यवस्थित आयोजक साबित हो गए; वह भी आयोजन के शुरू होने से पहले. अब सरकार को तो इन कामों को करने और इन कामों को नहीं हो पाने से होने वाली बेइज्जती से छुटकारा पाने का ठेका जनता पांच साल के लिए दे देती है सो सरकार भी लगी पड़ी हुई है ( वैसे भी न लगने के अलावा चारा क्या है?) अपनी इज्जत बचाने में. सवाल देश का है. हालांकि कुछ लोग अपनी इज्जत बचाने के लिए दूसरों पर कालिख पोंछने में पीछे नहीं हैं.

पर भला हो उस भगवान् का, जो इच्छा से या अनिच्छा से ही सही, ऐन वक्त पर देश की इज्जत बचाने को जाग जाते हैं. अब गलती से उन्होंने एक बार महाभारत के समय अर्जुन को गीता का ज्ञान देते वक्त "यदा यदा हि धर्मस्य ग्लानिर्भवति भारत:..." का उपदेश क्या दे दिया कि उन्हें इस देश को दुनिया भर में ग्लानि से बचाने के लिए अक्सर ही आना पड़ता है.

भगवान् भी क्या करे, अगर उन्हें पता होता कि '...संभवामि युगे- युगे' की इतनी कीमत चुकानी पड़ेगी तो शायद वे ऐसा वचन ही ना देते. अब उन्होंने इस देव-भूमि भारत की लाज रखने के लिए क्या-क्या नही किया ? पिछले कई वर्षों से यमुना की सफाई का अभियान चल रहा था पर दिल्ली में यमुना थी की साफ़ ही नहीं हो रही थी. पता नहीं कितनी योजनायें बनीं और कितने सौ करोड़ यमुना को लन्दन की टेम्स नदी बनाने के लिए फूंक दिए गए?

अब ऐसे में भगवन को ही इस ग्लानि से बचाने के लिए आगे आना पड़ा ताकि विदेशी मेहमानों को हमारी पवित्र यमुना नाले की तरह नहीं दिखे. उन्होंने इस साल ऐसी बारिश की कि पुराने लोग कहते हैं कि पिछले ५० साल में उन्होंने ऐसी बारिश नहीं देखी. पर ग्लानि से बचाने के लिए यमुना की सफाई जरूरी थी और उसके लिए जोरदार बाढ! सो ऐसा ही हुआ और इतना बाढ़ भगवान् की कृपा से आया कि दिल्ली तो दिल्ली, शंकर भगवन की नगरी हरिद्वार व् ऋषिकेश और कृष्ण भगवान् की नगरी मथुरा और वृन्दावन भी पानी-पानी हो गया. पर दिल्ली में इस बहाने टेम्स जैसी स्वच्छ और निर्मल यमुना बहने लगी. वैसे इससे एक पंथ और दो काज हुए. यमुना तो साफ़ हुई ही साथ ही सरकार को भी काम में देरी होने का प्राकृतिक बहाना मिल गया.

पर इतने भर से राष्ट्रमंडल में हमारी इज्जत तो बचने वाली नहीं है. सो इसे बचाने के लिए कहते हैं कि भगवान् ने मच्छरों तक को आदेश दे दिया. नतीजा वे भी ऐसा डेंगू लेकर इस बार आये कि पहले ऐसा कभी नहीं हो पाया. २६०० से ज्यादा लोग बीमार हुए इससे, अकेले दिल्ली में. अब हमारे पाठक भी कहेंगे कि अमां मियां, क्या मजाक करते हो? पर आप खुद ही सोचिये कि डेंगू इस तरह से दूसरे शहरों में क्यों नहीं हुआ? 'विश्वस्तरीय सुविधाओं वाले' दिल शहर में ही क्यों? तो इस डेंगू का कहर का असर यह हुआ कि दूसरे देशों से आने वाले खेलों के कई महायोद्धाओं ने अपना नाम वापस ले लिया. इससे राष्ट्रमंडल खेलों में प्रतिद्वंदिता कम होगी और भारत के लिए पदक तालिका में उंचा स्थान बनाना आसान हो जाएगा.

इसके बाद भी कुछ महारथियों ने जो हिम्मत दिखाई तो भगवान् के पास आदमी से कई गुना वफादार कुत्तों पर भरोसा करने के अलावा कोई चारा नहीं रहा. कुत्तों ने खेल गाँव की इमेज बनाने में जो भूमिका निभाई की सारी दुनिया के खिलाड़ी खेल गॉव आने से कतराने लगे. अब आदमी तो आदमी ठहरा वह तो खेल गॉव में हो रहे कुत्तों के इस खेल को समझ नहीं पाया और कुत्तों को पकड़ने में लगा हुआ है.
पर सच तो यही है कि भगवन अभी भी अपनी प्यारी भारत भूमि को '... ग्लानिर्भवति भारत:' से बचाने में जुटे हैं. इसके बाद भी अगर कोई कोसना चाहे तो यह भगवन का निरादर है पर भारत में अभिव्यक्ति की स्वतंत्रता भी है.

मंगलवार, 25 मई 2010

दिल्ली में ब्लोगर्स गोष्ठी


रविवार को दिल्ली में हिन्‍दी ब्‍लॉगरों की एक विस्तृत बैठक संपन्न हुई । ज्ञात हो कि दिल्ली ब्‍लॉगर्स इससे पहले भी कई बैठकों का सफल आयोजन कर चुके हैं। आभासी दुनिया के जरिए एक दूसरे से जुडे़ , समाज के विभिन्न वर्गों और देश के विभिन्न्न क्षेत्रों के लेखक और पाठक एक दूसरे के साथ साझे मंच पर न सिर्फ़ लिखने पढने तक सीमित रहे बल्कि उन्होंने आभासी रिश्तों के आभासी बने रहने के मिथकों को तोडते हुए आपस में एक दूसरे के साथ बैठ कर बहुत से मुद्दों पर विचार विमर्श किया । सुदूर छत्तीसगढ से आए साहित्यकार ब्‍लॉगर श्री ललित शर्मा जी और विख्यात ज्योतिष लेखिका श्रीमती संगीता पुरी जी के स्वागत और मिलन को एक सुनहरे मौके के रूप में लेते हुए आयोजित किए इस बैठक में लगभग ४० से भी अधिक ब्‍लॉगरों ने अपनी उपस्थिति दर्ज़ कराई । इस बैठक में शामिल होने वाले ब्‍लॉगर साथी थे- ललित शर्मा, संगीता पुरी, अविनाश वाचस्पति, रतन सिंह शेखावत, अजय कुमार झा, खुशदीप सहगल, इरफ़ान, एम वर्मा, राजीव तनेजा एवं संजू तनेजा, विनोद कुमार पांडे, पवन चंदन जी, मयंक सक्सेना, नीरज जाट, अमित (अंतर सोहिल)’ प्रतिभा कुशवाहा जी, एस त्रिपाठी, आशुतोष मेहता, शाहनवाज़ सिद्दकी, जय कुमार झा, सुधीर, राहुल राय, डा. वेद व्यथित, राजीव रंजन प्रसाद, अजय यादव,अभिषेक सागर, डा. प्रवीण चोपडा, प्रवीण शुक्ल प्रार्थी, योगेश गुलाटी, उमा शंकर मिश्रा, सुलभ जायसवाल, चंडीदत्त शुक्ला, श्री राम बाबू, देवेंद्र गर्ग जी, घनश्याम बाग्ला, नवाब मियां, बागी चाचा इत्‍यादि रहे।

इस बैठक में औपचारिक परिचय (आभासी दुनिया के लोगों का आमने सामने एक दूसरे से रुबरू होना एक दिलचस्प अनुभव होता है) के बाद , हिन्‍दी ब्‍लॉगरों के बीच सम्‍मानीय चर्चित हिन्‍दी ब्‍लॉगर और बैठक के आयोजक अविनाश वाचस्पति (जो कि सामूहिक ब्‍लॉग नुक्‍कड़ के मॉडरेटर हैं) ने प्रस्तावना में कई प्रमुख बातों को सबके सामने रखा, जिसमें उन्‍होंने कहा कि ''हिन्‍दी ब्‍लॉगिंग को उन दोषों से दूर रखने का प्रयास करेंगे जो टी वी, प्रिंट मीडिया और अन्‍य माध्‍यमों में दिखलाई दे रहे हैं। द्विअर्थी संवाद और शीर्षकों के जरिए सनसनी फैलाने से बचे रहेंगे। जो भाषा हम अपने लिए, अपने बच्‍चों के लिए चाहते हैं - वही ब्‍लॉग पर लिखेंगे और वही प्रयोग करेंगे। ब्‍लॉगिंग को पारिवारिक और सामाजिक बनायेंगे, जिससे भविष्‍य में इसे प्राइमरी शिक्षा के पाठ्यक्रम में शामिल किया जा सके। ब्‍लॉगिंग में वो आनंद आना चाहिए जो संयुक्‍त परिवार में आता है। यहां पर उसकी अच्‍छाईयां ही हों उसकी बुराईयों से बचे रहें। हम सबका प्रयास होना चाहिए कि जिस प्रकार आज मोबाइल फोन का प्रसार हुआ है उतना ही प्रचार प्रसार हिन्‍दी ब्‍लॉगिंग का भी हो परंतु उसके लिए हमें संगठित होना होगा। इसके लिए हमें एक वैश्विक संगठन बना लेना चाहिए।

उपस्थित ब्‍लॉगरों ने इन मुद्दों के अलावा और भी ज्‍वलंत विषयों ब्‍लॉगिंग और हिंदी , पत्रकारिता को कड़ी चुनौती देती ब्‍लॉगिंग विधा, ब्‍लॉगिंग एक सामाजिक समरसता कायम करने के माध्‍यम के सशक्‍त रूप में, पर भी सबने गहन चिंतंन किया । ब्‍लॉगरों के एक संगठन की आवश्यकता पर सबने सहमति जताते हुए इस कार्य को आगे बढाने का कार्य शुरू कर दिया है। ब्‍लॉगिंग की बढ़ती हुई ताकत के कारण भविष्य में ब्‍लॉगिंग और हिन्‍दी ब्‍लॉगरों को दमन का सामना न करना पड़े और उनकी अभिव्‍यक्ति पर सेंसर न लगे, इसके लिए भी आज एक बड़ी आवश्‍यकता है इस तरह के संगठन के निर्माण की है जिससे हिन्‍दी ब्‍लॉगिंग जगत स्‍वयं ही अनुशासित हो सके और इस प्रकार की संभावना ही पैदा न हो। इसी संकल्प के साथ बैठक का समापन हुआ । भविष्य में नियमित रूप से न सिर्फ़ ऐसी बैठकों अपितु तकनीकी कार्यशालाओं, विकीपीडिया को समृद्ध करने के लिए योगदान करते हेतु, साहित्यिक विधाओं के विशाल कोशों में सक्रिय भागीदारी के लिए युवाओं को तैयार करने के लिए आयोजनों के प्रस्‍ताव का सभी ने करतल ध्‍वनि से स्‍वागत किया।